बीएसएनएल ने भारत में लॉन्च की सैटेलाइट फोन सर्विस

सरकारी टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) और इनमारसेट ने एक नई सर्विस लांच की है आधिकारिक तौर पर ये एक नया भारतीय जीएसपीएस सिस्‍टम है । जिससे इनमारसैट की चौथी पीढ़ी के सेटेलाइट के माध्यम से सरकारी और निजी क्षेत्र के ग्राहकों को सैटेलाइट फोन सेवाएं मुहैया कराई जा सकेगी।

satellite-phone

बीएसएनएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक अनुपम श्रीवास्तव ने कहा, “यह ‘डिजिटल इंडिया’ के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है, साथ ही यह सुनिश्चित करता है कि कनेक्टिविटी सभी के लिए उपलब्ध हो”

बीएसएनएल ने कहा कि दूरसंचार विभाग के लाइसेंस के तहत गाजियाबाद स्थित नया जीएसपीएस गेटवे बीएसएनएल और इनमारसैट को पूरे देश में सैटेलाइट फोन यूजर्स की मांग को पूरा करने में सक्षम बनाएगा।

पढ़ें: कैसे पाएं बीएसएनएल BB249 इंटरनेट प्‍लान ?

बयान में कहा गया इससे सरकार को रक्षा सेवाओं, इंडस्ट्री, समुद्री व्यापार और भारत के दूरदराज के समुदायों के लिए सुरक्षित संचार की सेवा मुहैया कराने में मदद मिलेगी।

sattelite phone service

सैटेलाइट फोन क्‍या होता है

सैटेलाइट फोन में दूसरे फोन्‍स की तरह ही होता है लेकिन ये टॉवर से सिग्‍नल लेने की बजाए सीधे सैटेलाइट से सिग्‍नल लेता है। आप भले ही दुनिया के किसी भी कोने में क्‍यों न हो सैटेलाइट फोन से कहीं से कहीं भी बात कर सकते हैं। हालाकि इसकी सेवा लेने के लिए हर देश का अलग कानून होता है। पर्यटन और सरकारी सेवाओं के अलावा सेना सैटेलाइट फोन सेवा का प्रयोग करती है।

सैटेलाइट फोन सेवा 3 कंपनियां इरीडियम, ग्लोबलस्टार और थराया देती हैं। इनमें इरीडियम की सेवा पूरी दुनिया में, ग्लोबलस्टार 80 प्रतिशत हिस्से और थराया की सेवाएं भारत, एशिया के अन्य हिस्सों, अफ्रीका, पश्चिम एशिया और यूरोप में हैं। इसके अलावा ये कंपनियां टेलिकॉम ऑपरेटरों के साथ अनुबंध भी करती है जैसे इनतारसेट ने बीएसएनएल के साथ की है।